Login
TheBookSearch - Find books easily - United Kingdom - Shipping costs to: United Kingdom of Great Britain and Northern IrelandThe Book Search - Shipping costs to: United Kingdom of Great Britain and Northern Ireland
Book search - United KingdomAll available rare and new books.

Ki Kahaniyan-28, प्रेमचन्द की कहानियाँ-28 - compare all offers

9781613015261 - Munshi Premchand: Premchand Ki Kahaniyan-28, प्रेमचन्द की कहानियाँ-28
1
Munshi Premchand (?):

Premchand Ki Kahaniyan-28, प्रेमचन्द की कहानियाँ-28 (2014) (?)

Delivery from: Netherlands

ISBN: 9781613015261 (?) or 1613015267, in english, Bhartiya Sahitya Inc. New

£ 2.87 ( 3.25)¹(without obligation)
Direct beschikbaar
bol.com
मुंशी प्रेमचन्द एक व्यक्ति तो थे ही, एक समाज भी थे, एक देश भी थे। व्यक्ति समाज और देश तीनों उनके हृदय में थे। उन्होंने बड़ी गहराई के साथ तीनों की समस्याओं का अध्ययन किया था। प्रेमचन्द हर व्यक्ति की, पूरे समाज की और देश की समस्याओं को सुलझाना चाहते थे, पर हिंसा से नहीं, विद्रोह से नहीं, अशक्ति से नहीं और अनेकता से भी नहीं। वे समस्या को सुलझाना चाहते थे प्रेम से, अहिंसा से, शान्ति से, सौहार्द से, एकता से और बन्धुता से। प्रेमचन्द आदर्श का झण्डा हाथ में लेकर प्रेम एकता, बन्धुता, सौहार्द और अहिंसा के... मुंशी प्रेमचन्द एक व्यक्ति तो थे ही, एक समाज भी थे, एक देश भी थे। व्यक्ति समाज और देश तीनों उनके हृदय में थे। उन्होंने बड़ी गहराई के साथ तीनों की समस्याओं का अध्ययन किया था। प्रेमचन्द हर व्यक्ति की, पूरे समाज की और देश की समस्याओं को सुलझाना चाहते थे, पर हिंसा से नहीं, विद्रोह से नहीं, अशक्ति से नहीं और अनेकता से भी नहीं। वे समस्या को सुलझाना चाहते थे प्रेम से, अहिंसा से, शान्ति से, सौहार्द से, एकता से और बन्धुता से। प्रेमचन्द आदर्श का झण्डा हाथ में लेकर प्रेम एकता, बन्धुता, सौहार्द और अहिंसा के प्रचार में जीवन पर्यन्त लगे रहे। उनकी रचनाओं में उनकी ये ही विशेषतायें तो है। प्रेमचन्द जनता के कथाकार थे उनकी कृतियों में समाज के सुख-दुःख, आशा-आकाँक्षा, उत्थान-पतन इत्यादि के सजीव चित्र हमारे हृदयों को झकझोरते हैं। वे भारत के प्रमुख कथाकार थे, जिनको पढ़े बिना भारत को समझना संभव नहीं। भारतीय साहित्य संग्रह ने उनकी 322 कहानियों को इस ‘प्रेमचन्द की कहानियां’ श्रृंखला के 46 भागों में सुधी पाठकों पाठकों को उपलब्ध कराने का प्रयास किया है। - प्रकाशकTaal: hi;Formaat: ePub met kopieerbeveiliging (DRM) van Adobe;Kopieerrechten: Het kopiëren van (delen van) de pagina's is niet toegestaan ;Geschikt voor: Alle e-readers te koop bij bol.com (of compatible met Adobe DRM). Telefoons/tablets met Google Android (1.6 of hoger) voorzien van bol.com boekenbol app. PC en Mac met Adobe reader software;Verschijningsdatum: januari 2014;ISBN10: 1613015267;ISBN13: 9781613015261; Ebook | 2014
9781613015261 - Munshi Premchand: Premchand Ki Kahaniyan-28
2
Munshi Premchand (?):

Premchand Ki Kahaniyan-28 (2014) (?)

ISBN: 9781613015261 (?) or 1613015267, in english, Bhartiya Sahitya Inc. Bhartiya Sahitya Inc. Bhartiya Sahitya Inc. New, ebook, digital download

£ 2.82 ( 3.20)¹(free shipping, without obligation)
in-stock
From Seller/Antiquarian
, - , - , - , 322' ' 46